PRACHIN EVAM MADHYAKALEEN BHARAT KA ITIHAS


Price: ₹ 279.00
(as of Jun 17,2021 21:14:09 UTC – Details)


प्रस्तुत पुस्तक ‘प्राचीन एवं मध्यकालीन भारत का इतिहास’ सिविल सेवा एवं राज्य सेवा आयोग की प्रारंभिक व मुख्य परीक्षा के लिए लिखी गई है। पुस्तक में प्रागैतिहासिक काल से प्रारंभ कर हड़प्पा सभ्यता, वैदिक काल, महाजनपद युग, मौर्य काल, गुप्त काल, राजपूतकाल, दिल्ली सल्तनत इत्यादि इतिहास के प्रमुख बिंदुओं पर विस्तृत व सिविल सेवा के नवीनतम पाठ्यक्रमानुसार सामग्री प्रस्तुत की गई है। पुस्तक की विशेषताएँ सिविल सेवा परीक्षा के नवीनतम पाठ्यक्रम पर आधारित सामग्री का समावेश यथोचित तालिकाओं एवं मानचित्रों का समावेश सारगर्भित एवं विश्लेषणपरक सामग्री का सरल व स्पष्ट भाषा में प्रस्तुतीकरण.



From the Publisher

PRACHIN EVAM MADHYAKALEEN BHARAT KA ITIHAS

PRACHIN EVAM MADHYAKALEEN BHARAT KA ITIHASPRACHIN EVAM MADHYAKALEEN BHARAT KA ITIHAS

पुस्तक के बारे में–

प्रभात प्रकाशन द्वारा प्रकाशित सबसे ज्यादा बिक्री वाली पुस्तकों की सूची में शामिल “प्राचीन एवं मध्यकालीन भारत का इतिहास”, डॉ. कमल भारद्वाज द्वारा लिखी गयी है|सिविल सेवा के प्रारंभिक और मुख्य परीक्षा के अभ्यर्थियों, राज्य लोक सेवा आयोग की परीक्षाओं में शामिल होनेवाले परीक्षार्थियों तथा इतिहास के विद्यार्थियों के लिए एक अत्यंत ही उपयोगी और बेहतरीन पुस्तक है, जो प्राचीन तथा मध्यकालीन भारत के इतिहास के व्यापक क्षेत्र को समाविष्ट करते हुए गुणात्मक, विश्लेषणात्मक और विस्तृत जानकारी प्रदान करती है।पुस्तक को चार भागों में बांटा गया है : प्राचीन भारत का इतिहास, मध्यकालीन भारत का इतिहास, विगत वर्षों (प्रारंभिक परीक्षा) के प्रश्न और विगत वर्षों (मुख्य परीक्षा) के प्रश्न| 21 अध्यायों एवं 2 विशेष भागों में समायोजित (सिविल सेवा के विगत वर्षों के प्रारंभिक परीक्षाओं के प्रश्न उत्तर सहित और मुख्य परीक्षाओं के प्रश्नों के साथ) यह पुस्तक एक अनूठी संग्रहिका की तरह है, जिसमें प्राचीन तथा मध्यकालीन भारत के इतिहास की क्रमानुसार व्यापक विस्तृत विवेचना तथ्यपूर्ण, उच्चस्तरीय,विश्वसनीय, एवं प्रभावकारी तरीके से प्रस्तुत की गयी है|

==========================================================================================================

अनुक्रम

1. प्राचीन भारतीय इतिहास के स्रोत

2. प्रागैतिहासिक काल

3. सिंधु घाटी सभ्यता

4. ऋग्वैदिक काल और उत्तर वैदिक काल

5. उत्तर वैदिक काल

6. धार्मिक व्यवस्था—पुनर्निर्माण

7. विदेशी आक्रमण-भारत पर प्रभाव

8. मौर्य साम्राज्य

9. मौर्योत्तर युग 200 ई.पू. से 300 ई. तक

10. कुषाण साम्राज्य

11. संगम काल

12 गुप्त काल

13. हर्षवर्धन और उसका युग

14. उत्तर भारत (650-1200 ई.)

15. दक्षिण भारत

उत्तर भारत और दक्कन के प्रांतीय राजवंश विजयनगर साम्राज्य पंद्रहवीं और सोलहवीं शताब्दियों के धार्मिक आंदोलन मुगल काल मराठा राज्य संघ

यूपीएससी सिविल सर्विसेज (प्रारंभिक परीक्षा) में पूछे गए प्रश्न

यूपीएससी सिविल सर्विसेज (मुख्य परीक्षा) में पूछे गए प्रश्न

पुस्तक की मुख्य विशेषताएं–

PRACHIN EVAM MADHYAKALEEN BHARAT KA ITIHAS

PRACHIN EVAM MADHYAKALEEN BHARAT KA ITIHAS

PRACHIN EVAM MADHYAKALEEN BHARAT KA ITIHAS

PRACHIN EVAM MADHYAKALEEN BHARAT KA ITIHAS

PRACHIN EVAM MADHYAKALEEN BHARAT KA ITIHAS

PRACHIN EVAM MADHYAKALEEN BHARAT KA ITIHAS

विशेष रूप से प्राचीन एवं मध्यकालीन ऐतिहासिक अवधि का गहराई से विस्तृत विवरण

प्रदेशों और राज्यों की स्थिति दर्शाने के लिए मानचित्रों का व्यापक उपयोग

सिविल सेवा के विभिन्न परीक्षाओं में पूछे गए प्रश्नों की प्रस्तुति

PRACHIN EVAM MADHYAKALEEN BHARAT KA ITIHAS

PRACHIN EVAM MADHYAKALEEN BHARAT KA ITIHAS

PRACHIN EVAM MADHYAKALEEN BHARAT KA ITIHAS

PRACHIN EVAM MADHYAKALEEN BHARAT KA ITIHAS

PRACHIN EVAM MADHYAKALEEN BHARAT KA ITIHAS

PRACHIN EVAM MADHYAKALEEN BHARAT KA ITIHAS

संघ एवं राज्य लोक सेवा आयोग द्वारा आयोजित प्रारंभिक एवं मुख्य परीक्षाओं हेतु अत्यंत उपयोगी

गुणवत्ता और तथ्यपरक सामग्री के कारण इतिहास को समझना बहुत आसान

भारत के प्राचीन और मध्यकालीन इतिहास के बारे में विस्तारित रूप से जानकारी प्रदान करनेवाली एक संपूर्ण पुस्तक

लेखक के बारे में—

डॉ. कमल भारद्वाज

दिल्ली विश्वविद्यालय से इतिहास एवं हिंदी में एम.ए., बी.एड. तथा हिंदी में पी-एच.डी. तक की शिक्षा प्राप्त डॉ. कमल भारद्वाज ने सिविल सेवा एवं राज्य लोक सेवा आयोग की प्रारंभिक और मुख्य परीक्षा को ध्यान में रखकर यह पुस्तक लिखी है| डॉ. कमल भारद्वाज प्रेजेंटेशन कान्वेंट स्कूल और दिल्ली प्रशासन में शिक्षण कार्य कर चुकी हैं| वर्तमान में वह “स्पार्क लाइफ फाउंडेशन” एन.जी.ओ. के अंतर्गत दलित तथा वंचित वर्ग के बच्चों को नि:शुल्क शिक्षा प्रदान करने का सामाजिक कार्य कर रही हैं|

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *